बालिका की जान बचाने देवदूत बनकर अस्पताल पहुंची एसडीओपी

by admin
Spread the love

बालिका की जान बचाने देवदूत बनकर अस्पताल पहुंची एसडीओपी
रायसेन। शहर के सरकारी अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही 19 वर्षीय पूनम की जान बचाने एसडीओपी देवदूत बनकर पहुंची।

एसडीओपी अनीता प्रभा शर्मा को जैसे ही सत्येंद्र जोशी प्रेस ग्रुप द्वारा पता चला की 19 वर्षीय पूनम को हिमोग्लोबिन बी पॉजिटिव की आवश्यकता है उन्होंने तुरंत सहमति दर्ज कर अस्पताल पहुंचे और अपना रक्त देकर बालिका की जान बचाई।

Related Articles

Leave a Comment